Thursday, April 11, 2019

सब यहीं है

हँसी ,ख़ुशी, दुःख और गम
सब यहीं  हैं, 
यही हैं तेरे दुश्मन  
और हमदम यहीं  हैं,
अच्छे, बुरे, झूठे और सच्चे  
जो भी हैं सारे धर्मं , 
सारे कर्म यही हैं 
किस दुसरे जहाँ की 
तलाश है बन्दे तुझको,
जन्नत यहीं है और 
जहान्नुम भी यही है

No comments:

Post a Comment

जब तुम रूठती हो

सुनो, जब तुम रूठती हो  बड़ी अच्छी लगती हो, मासूम हो जाती हो और भी  जिद पर जब अड़ती हो,  कहती हो झूठ भी  जब  बेबुनियादी से,    ...