Thursday, April 11, 2019

मुहब्बत

होने लगी है अब यादें धुंधली तेरी 
और तुझसे बिछड़ने  का गम भी गुजरने लगा है 
छोड़ दिया अब यादों में तेरी, रोना मैंने 
के अब कोई और,  मुझसे मुहब्बत करने लगा है

बीमार   किया था जिसने कभी मुझे 
तेरी आशिकी का, वो बुखार , उतरने लगा है
तबियत फिर से मेरी दुरुस्त हुई है      
क्योकि कोई और,  मुझसे मुहब्बत करने लगा है

No comments:

Post a Comment

गर तेरे दिल में नहीं  तो संग होना चाहता हूँ  मै तेरी मंजिल न सही  हमसफर होना चाहता हूँ ना खुदा तेरा  ना पीर होना चाहता हूँ  ...