Thursday, April 11, 2019

मेरी शक्सियत

अंदाजा मेरी शक्सियत का 
मेरी सूरत से ना लगाओ लोगों 
गर है इरादा जानने का मुझको  
तो पहले सीरत को मेरी, आजमाओ लोगों 

माना के शख्सियत मेरी खास नहीं है  
और कोई बड़ा इल्म भी मेरे पास नहीं है
पर जो भी मेरी पहचान या मेरा बजूद है   
कम से कम उसे तो ना मिटाओ लोगों, 
   
राय अपनी साझा करने से पहले 
ज़रा पहचानने की जहमत तो उठाओ लोगों 
यूँ ही अपनी फिजूल की चर्चा का 
मुद्दा मुझे ना बनाओ लोगों|

No comments:

Post a Comment

जब तुम रूठती हो

सुनो, जब तुम रूठती हो  बड़ी अच्छी लगती हो, मासूम हो जाती हो और भी  जिद पर जब अड़ती हो,  कहती हो झूठ भी  जब  बेबुनियादी से,    ...