Wednesday, March 6, 2019

A Poem

"Crazy or Unsatisfied"

Sometimes I feel  
there is a lot in me 
And I am not able to express,

Sometimes I feel
I don’t know nothing 
And I am blank or know very less,

Then I think
Why am I thinking all of this?
Does it mean something
Or  this is just, all rubbish?

Why the hell 
I am going into deep?
I should stop thinking
and go to sleep,

Is thinking that much right ?
It’s already 2:30 in the night,
This happens a lot with me
Am I crazy ? or just somehow unsatisfied.

Monday, March 4, 2019

"हर हर महादेव "

वही आरम्भ वही अंत है, वही रचियता वही सर्वनाश  
उसी में विलय हर जन का है, उसी का ये जग उत्पाद 
महादेव चहु दिशा है गूंजता, महादेव का ही संखनाद 
भूतो का भी है वो राजा और देवो का राजाधिराज |

गले में है उसके नागों की माला
वही त्रिशूल धारी और डमरू वाला 
वही जीवन है वही म्रत्यु है
वही प्रमाण वही सत्य है  
उसी में है जीवन का प्रसंग उसी में  म्रत्यु का अर्थ है |
..................
ये निम्न शब्द तेरी प्रशंसा में अर्पण ,
हे  शिव,  हे सर्वशक्तिमान
तेरे आराधक कामेंद्र का तुझे कोटि कोटि प्रणाम |

हर हर महादेव !

A Poem

"Selfishly civilized"

Civilized, we pretend to be
But only “I”, we tend to see
Divide, discriminate, classify
We did, throughout the history

To nurture, the life tree 
Become deep, become sea
Come together as a society  
And forbid, “me” and “thee” 


Let go hate, and become free
Live your life with the spree
Love, empathize, and live in unity
                Or else

 "Selfishly civilized", all we will be!

A Poem in Hindi.

"मै गाँव से हूँ "

कुहरे की सुबह, 
दोपहर की भीनी धुप, 
मंद बहती हवा और 
दिसंबर की ठंडी शाम से हूँ। 

घास पर ओस की बुँदे, 
हरे-भरे गेहूं के  खेत, 
कच्ची सड़क, मिटटी की खुसबू, 
और आम के पेड़ की छाँव से हूँ । 

आरती से दिन का आरम्भ, 
प्रभु के भजनों से संध्या, 
लाउड स्पीकर में गूंजते, 
कृष्ण और राम के नाम से हूँ। 

चिडियों की चहक, 
फूलों की महक, 
साफ नीला आसमान, 
और चमकते तारों की रात से हूँ। 

मुझे गर्व है की " मै गाँव से हूँ "।

Sunday, March 3, 2019

A Poem, "Empty Souls"


who is wrong,
who is right?
who is to tell,
who is to find?

who is devil,
who is divine?
How to judge,
How to define?

How do I adjoin
to become whole ?
when  all I  see  is,
smoky faces, "empty souls".

A short story "The Intern"

Radhika, a small town girl, She is simple, down to earth and loves to listen to music. She hates to put on makeup whenever she has to. She ...